Track Nation Next on Social Media

Politics

Kejriwals protest an excuse to not to work: Sheila Dikshit

Former Delhi chief minister Sheila Dikshit trashed Delhi CMs Arvind Kejriwals on-going protest by calling it an ?excuse to not to work.
Sheila Dikshit (Photo source: facebook)

Former Delhi chief minister Sheila Dikshit trashed Delhi CMs Arvind Kejriwals on-going protest by calling it an ?excuse to not to work. Dikshit accused the Aam Aadmi Party chief by saying that he was not at all conscious of his constitutional duties, because of which Delhites have been suffering. Accusing Kejriwal of ?confrontational politics, the former cm said that she couldn’t understand what Kejriwals fight (via protest) was about.

Former Delhi chief minister Sheila Dikshit trashed Delhi CMs Arvind Kejriwals on-going protest by calling it an ?excuse to not to work.
Arvind Kejriwal along with Manish Sisodia and others at Lieutenant Governor Anil Baijals residence in Delhi

Dikshit further said that the people of Delhi had voted for Kejriwal with huge majority and they know ?whats happening. She said that Kejriwal couldn’t duck his responsibilities like this.

Dikshit according to a report in NDTV said, What message you are giving? It (dharna) makes no sense. People of Delhi are very disappointed because they brought him with a huge majority and this is how he is treating them? The roles of the Lt Governor and the chief minister are well defined. You can’t suddenly change their roles. Both of them are free to disagree, but a dharna at LG’s house is no solution. The photographs that have come out of their sit-in protest are disgraceful.

Dikshit said that the Congress in Delhi too had demanded for a separate statehood but soon they realised that it wasn’t possible.

Kejriwal, along with Manish Sisodia, Satyendra Kumar Jain and Gopal Rai, through a sit-in protest since five days at Lieutenant Governor Anil Baijals residence, has been demanding a separate statehood for Delhi.

Also read: It feels nice to be back: Manohar Parrikar on returning from US after 3 months

Continue Reading
Click to comment
Subscribe
Notify of
guest
0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Entertainment

Indie singer Prateek Gandhi’s ‘Naina Ri Patang’ unlocks emotions, charms fans | Interview

Published

on

By

Avani Arya | Nagpur

Indie singer Prateek Gandhi in conversation at Dialogue @ Nation Next, speaks about his musical journey, his fans, and his upcoming releases and much more.

Also Watch: Just because you don’t like Mr Modi doesn’t mean India is under threat: Harish Salve | Interview

Continue Reading

Nagpur News

November 30, 2022 | Nagpur News | नागपुर समाचार | Hindi News Bulletin | Nation Next

Published

on

By

Avani Arya | Nagpur

Nation Next Nagpur Bulletin brings to you a summary of major news events that took place in Nagpur on November 30, 2022.

1. मुंबई में हुई cabinet की meeting में प्रधानमंत्री आवास योजना के beneficiaries को सिर्फ 1 हजार रुपए में रजिस्ट्री करने का decision लिया गया है. नागपूर के mla कृष्णा खोपड़े ने यह मांग की थी.mla खोपड़े के मुताबिक़ कुछ दिन पहले प्रधानमंत्री आवास योजना के beneficiaries ने उनसे मुलाक़ात की थी और 1 हजार रुपए में रजिस्ट्री कराने की व्यवस्था करने की मांग की थी. इसके बाद खोपड़े ने 6 september 2022 को Revenue Minister राधाकृष्ण विखे पाटिल को letter लिखा और बाद में 11 नवंबर को deputy cm फडणवीस को letter दिया. इस दौरान letter में यह कहां गया कि जैसे झोपड़पट्टी के लोगों को फ्री में रजिस्ट्री की व्यवस्था की गई है, उसी तरह प्रधानमंत्री आवास योजना के beneficiaries को हजार रुपए में रजिस्ट्री करने की व्यवस्था की जाए. इस मांग को state government ने मान लिया है.

2. आपने नागपुर शहर में देखा होगा की कुछ महीने पहले बनी सीमेंट roads को नल के पाइपलाइन और गटर line के काम के लिए तोड़ा जा रहा है. इसके विरोध में बुधवार 30 नवंबर को युवक कांग्रेस ने प्रोटेस्ट किया. ‘ घंटा बजाओ, नागपुरवासियों का टैक्स बचाओ ‘ के नाम से यह प्रोटेस्ट किया गया. बंटी शेलके के lead में इस प्रोटेस्ट में नागपुर Municipal Commissioner राधाकृष्णन बी, cm एकनाथ शिंदे और Deputy CM फडणवीस के मास्क पहनकर प्रोटेस्ट किया गया.

3. नागपुर के गिट्टीखदान पुलिस स्टेशन के तहत आनेवाले बोरगांव दिनशॉ फैक्ट्री के सामने वाली बस्ती में 3 महिलाओ के साथ मारपीट का video वायरल हो रहा है. यह घटना शुक्रवार 25 नवंबर की है. इस मामले में आम आदमी पार्टी के लोगों ने पुलिस स्टेशन पहुंचकर आरोपियों पर सख्त कार्रवाई करने की मांग की है. आम आदमी पार्टी कार्यकर्ताओ के मुताबिक़ पुलिस ने अब तक किसी पर भी कोई concrete कार्रवाई नहीं की है. जबकि अलका उईके नाम की महिला के साथ बहोत ज्यादा मारपीट आरोपी चंदन सडमाके ने की है. जानकारी के मुताबिक़ जिनके साथ मारपीट हुई है वो 3 महिलाएं जब गिट्टीखदान पुलिस स्टेशन पहुंची तो सिर्फ एक महिला की complaint ली गई. इस मामले में 354 के तहत अपराध दर्ज होता है, लेकिन पुलिस महिला से कह रही है कि हमने उसको समझा दिया है, अब वो कुछ नहीं करेगा. video में देख सकते है कि एक आदमी महिला के साथ किस तरह से मारपीट कर रहा है. जानकारी के अनुसार इसमें पुलिस ने सिर्फ nc मामला दर्ज किया है. देखने में आया है की शहर पुलिस की इसी लापरवाही के चलते कई बड़े -बड़े हादसे बाद में होते है. समय रहते पुलिस किसी भी मामले में सख्त कार्रवाई करे, तो सामने होनेवाले serious crime को रोका जा सकता है.

4. नागपुर के सदर में Bishop Cotton स्कूल में बुधवार को स्कूल के खिलाफ parents ने नाराजगी जाहिर की . बुधवार 30 नवंबर को सुबह ही parents स्कूल के सामने जमा हो गए. parents ने स्कूल की headmistress शुभदा टिमोथी के खिलाफ नाराजगी की है और parents का यह कहना है कि इनकी appointment ही illegal तरीके से हुई है .कुछ दिन पहले parents ने स्कूल की headmistress के खिलाफ नागपुर के Education Officer को भी written complaint दी है. parents का कहना है कि स्कूल headmistress का बर्ताव parents और management के साथ बिलकुल भी अच्छा नहीं है. parents के साथ उन्होंने कई बार arrogantly बात की है. parents ने यह मांग की है कि स्कूल की CBSE की principal maudlin तिवसकर को nursery से लेकर 12th तक का स्कूल का पूरा चार्ज दिया जाए. parents का कहना है की headmistress टिमोथी के कारण उनके बच्चों की study का नुक्सान हो रहा है. आज parents ने school के management से बात की और उन्हें अपनी problems बताई.

5.  29 नवंबर को नागपूर के मेडीकल कॉलेज में ragging का एक मामला सामने आया है. जिसमें 6 students के खिलाफ कार्रवाई करके उनकी Internship cancel की गई है. इसके साथ ही इन students के खिलाफ पुलिस में complaint दर्ज की गई है. जानकारी के अनुसार mbbs के first year students के साथ ragging का video सामने आने के बाद कॉलेज में सनसनी मच गई थी. इसके बाद central ragging commitie ने इस मामले में मेडीकल कॉलेज को complaint करते ही यह कार्रवाई की गई. दरअसल मेडीकल administration को central ragging commitie की ओर से एक video mail किया गया था., जिसमे 6 intern students mbbs के एक first year student की ragging कर रहे थे. इस वीडियो के मिलने के बाद मेडीकल administration ने तुरंत एक meeting ली और investigation के order दिए. investigation में पता चला कि video सही है. इन students को hostel से भी बाहर कर दिया गया है. कल रात तक यह कार्रवाई जारी थी.

6. रेलवे पार्सल department की ओर से सामान इस शहर से दूसरे शहर भेजा जाता है. कई बार रेलवे कर्मचारी और मजदुर इसमें काफी लापरवाही करते है, कई लोगों के महंगे -महंगे सामान भी रेलवे मजदूरों के उठाने और रखने से टूट जाते है. लेकिन रेलवे department इन गैरजिम्मेदार मजदूरों और रेलवे कर्मचारियों पर किसी भी तरह की कोई कार्रवाई नहीं करता है. ऐसा ही एक मामला मंगलवार 29 नवंबर को सामने आया है. दरअसल एक व्यक्ति ने नागपूर से अपने बेटे के लिए moped लातूर के लिए भेजी थी , लेकिन इसको लातूर में न उतारते हुए इसको कोल्हापुर में उतारा गया. जिसके कारण इस व्यक्ति को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ा. जानकारी के मुताबिक़ गणेशपेठ में रहनेवाले m. अग्रवाल ने एक moped 24 नवंबर को नागपुर के पार्सल department से महाराष्ट्र एक्सप्रेस में लातूर भेजी थी, उनका बेटा वहां पढ़ाई कर रहा है. लेकिन लातूर पहुंचने के बाद इसको लातूर में नहीं उतारा गया. जब मोपेड नहीं मिली तो बेटे ने अपने पिता को फ़ोन पर जानकारी दी.इसके बाद अग्रवाल ने जब पता किया तो उन्हें पता चला की मोपेड कोल्हापुर पहुंच गई है. रेलवे ने अग्रवाल को यह जानकारी दी की लातूर में ट्रेन से नीचे मोपेड उतारनेवाला कोई नहीं था. इसके बाद यह भी कहां गया कि अगर फिर से लातूर में कोई मोपेड उतारनेवाला नहीं मिला तो मोपेड वापस आएगी. अग्रवाल ने strict होकर गाडी उतारने को कहा, उन्होंने railway helpline पर complaint भी की, इसके बाद मोपेड को लातूर में उतारा गया. रेलवे के पार्सल department की लापरवाही के कारण कई लोगों को रोजाना ही mentally और physically harrass होना पड़ता है. कई मामले सामने आते है तो कई मामले सामने ही नहीं आते है.

Script by – Shamanand Tayde

Also Watch: November 28, 2022 | Nagpur News | नागपुर समाचार | Hindi News Bulletin | Nation Next

Continue Reading

Social

Senior journalist Ravish Kumar quits NDTV India

Published

on

By

Radhika Dhawad | New Delhi
Senior Journalist Ravish Kumar quit from his post as Senior Executive Editor at NDTV India on Wednesday, November 30.

Ravish Kumar

Senior Journalist Ravish Kumar quit from his post as Senior Executive Editor at NDTV India on Wednesday after the news channel informed the Bombay Stock Exchange in a regulatory filing that its founders Prannoy Roy and Radhika Roy have resigned as the directors of RRPR Holding Private Limited.

Suparna Singh, President, NDYV Group said Kumar’s resignation was effective immediately. Singh, through an email, stated, “Few journalists have impacted people as much as Ravish. This reflects in the immense feedback about him: in the ‘crowds he draws everywhere; in the prestigious awards and recognition he has received, within India and internationally and in his daily reports, which champion the rights and needs of those who are under-served.”

Singh added that Kumar had been an integral part of NDTV for decades and that his contribution has been immense. She said, “We know he will be hugely successful as he embarks on a new beginning.”

In September 2019, Kumar won the prestigious Ramon Magsaysay Award for ‘harnessing journalism to give voice to the voiceless.’ The Ramon Magasaysay Foundation said Kumar was being recognised for ‘his unfaltering commitment to a professional, ethical journalism of the highest standards; his moral courage in standing up for truth, integrity, and independence; and his principled belief that it is in giving full and respectful voice to the voiceless, in speaking truth bravely yet soberly to power, that journalism fulfills its noblest aims to advance democracy.’

Kumar used to host a number of programs including the channel’s flagship weekday show Hum Log, Ravish ki Report, Des Ki Baat and Prime Time. He has also been conferred with the Ramnath Goenka Excellence in Journalism Award twice.

Prannoy and Radhika Roy resigned as the Directors on the board of RRPR Holding Private Limited, the company said in a regulatory filing on Tuesday. The board of RRPR Holding has approved the appointment of Sudipta Bhattacharya, Sanjay Pugalia and Senthil Sinniah Chengalvarayan as Directors on its board with immediate effect.

The move came after the Gautam Adani-led Adani Group acquired 29.18% stake in television channel NDTV Ltd on August 23 and said it would launch an open offer as required by the Securities and Exchange Board of India (SEBI) to buy another 26% in the company. On November 22, the Adani Group launched its open offer, which is to remain open until December 5, 2022

Also read: Tata Sons, Singapore Airlines to merge Vistara, Air India by March 2024

 
Continue Reading
Advertisement
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x