Track Nation Next on Social Media
Nation Next

Remembrance Videos

When Atal Bihari Vajpayee asked for Pakistan in ‘dowry’ | Atal Bihari Vajpayee story

India is celebrating the 98th birth anniversary of former PM Atal Bihari Vajpayee in 2022. He was born on 25th December 1924. Nation Next brings you some lesser known facts about his life.

Script by – Shamanand Tayde

Also Watch: Nagpur’s 139-yr-old Hislop College that had Rajkumar Hirani as student…

Remembrance

Did you know 7-term MP Sharad Yadav 1st became MP at 27 | Sharad Yadav news

Published

on

By

Avani Arya | Reporter : Shamanand Tayde | Nagpur

Former JDU minister Sharad Yadav died at the age of 75 on January 12, 2023. Nation Next brings you some lesser known facts on his political career.

Script by – Shamanand Tayde

Also Watch: BREAKING: Nitin Gadkari receives death threat over phone

Continue Reading

Remembrance

PM Narendra Modi’s mother Heeraben passes away, PM Modi pens emotional tweet

Published

on

By

Radhika Dhawad | Ahmedabad
Mother of Prime Minister Narendra Modi Heeraben passed away on Friday two days after she was admitted to UN Mehta Hospital in Ahmedabad.

PM Modi with his mother Heeraben

Mother of Prime Minister Narendra Modi Heeraben (100) passed away on Friday two days after she was admitted to UN Mehta Hospital in Ahmedabad.

Sharing her picture, PM Modi penned an emotional post on Twitter by saying, “A glorious century rests at the feet of God. In Maa I have always felt that trinity, which contains the journey of an ascetic, the symbol of a selfless Karmayogi and a life committed to values. When I met her on her 100th birthday, she said one thing – Always remember – Work with intelligence, live life with purity.”

On her birthday this year, PM Modi in his blog titled ‘Mother’ wrote, “Today, I feel extremely happy and fortunate to share that my mother Smt. Heeraba is entering her hundredth year. This is going to be her birth centenary year. If my father had been alive, he too would have celebrated his 100th birthday last week. 2022 is a special year as my mother’s centenary year is starting, and my father would have completed his.”

He added, “I have no doubt that everything good in my life, and all that is good in my character, can be attributed to my parents. Today, as I sit in Delhi, I am filled with memories from the past.”

Born on 18 June, 1923, Heeraben Modi’s hometown was Vadnagar in Mehsana, Gujarat. She is survived by five sons – Narendra Modi, Pankaj Modi, Soma Modi, Amrit Modi and Prahlad Modi, and one daughter Vasantiben Hasmukhlal Modi. Heeraben Modi lived in Raysan village near Gandhinagar with her younger son Pankaj.

Also read: Video: Anil Deshmukh walks out of Arthur Road Jail

Continue Reading

Remembrance

Why did Sanjay Gandhi sterilize 60 lakh people in emergency? | Sanjay Gandhi facts

Published

on

By

Avani Arya | Reporter : Shamanand Tayde | Nagpur

On Sanjay Gandhi’s 75th birth anniversary, Nation Next brings you some lesser known facts about Sanjay Gandhi’s life in the video.

संजय गांधी का जन्म नई दिल्ली में 14 दिसंबर 1946 को हुआ था. वे इंदिरा गांधी के छोटे  बेटे और former prime minister राजीव गांधी के छोटे भाई थे . उनकी शुरुआती पढ़ाई देहरादून और उसके बाद स्विट्जरलैंड के International Boarding School  ‘Ecole de Humanite ’ में हुई थी. लेकिन उनका interest  पढ़ाई में कम और machines  में ज्यादा था. बचपन से ही उन्हें मशीनें ठीक करने का बहुत जुनून था. politics में आने के बाद वे अपनी मां इंदिरा गांधी के काफी करीब थे और उनकी मां भी उनसे सलाह लेकर ही decision लिया करती थी. संजय अपने decisions को लेकर हमेशा से ही सुर्खियों में रहे थे. ऐसा ही उनका एक फैसला था,Family planning. 25 जून 1975 को india में emergency की घोषणा हुई और इसी दौरान कहां जाता है कि संजय गांधी ने नसबंदी campaign चलाया था. india को जब  independence मिली थी, उसके बाद से ही Family planning की बातें होने लगी थी.  साल 1975 में emergency लगने के बाद यह जिम्मेदारी संजय ने अपने कंधो पर उठा ली और government officers को target देकर लोगों की नसबंदी कराना शुरू किया.

Reports के मुताबिक लोगों को उस दौरान घर में घुसकर, बसों से उतारकर और लालच देकर नसबंदी कराई थी. एक रिपोर्टके मुताबिक़ 1 साल के अंदर ही करीब 60 लाख लोगों की नसबंदी की गई थी. यह भी बताया जाता है कि minors से लेकर बुजुर्ग तक के लोगों की नसबंदी इस दौरान की गई थी. इस समय कई लोगों का गलत operation करने की वजह से उनकी जान भी गई थी. इसी decision के कारण 1977 में पहली बार कांग्रेस सत्ता से बाहर हुई. कहां जाता है कि जबरन नसबंदी कराने के फैसले के कारण ही कांग्रेस की हार हुई थी. संजय गांधी इस  campaign   के चलते दुनिया भर में छा जाना जाते थे, लेकिन उनका यह दांव उल्टा हो गया, इस  campaign  का काफी criticism हुआ और opposition parties को एक बहोत बड़ा मुद्दा मिला गया था. उस समय इस नसबंदी करने के decision को opposition parties ने काफी opposed किया था. उस समय  भाजपा के दिग्गज नेता और former prime minister अटलबिहारी वाजपेयी ने इसपर एक poem भी लिखी थी ” आओ मर्दों ‘ नामर्द बनो ”

इस समय संजय गांधी के साथ ही एक नाम काफी चर्चा में था. रुखसाना सुल्ताना का. रुखसाना को संजय गांधी का बेहद करीबी माना जाता था. उन्हें नसबंदी  campaign   की जिम्मेदारी सौंपी गई थी.दिल्ली से नसबंदी  campaign  की शुरुआत की गई. इसके लिए चार लोगों को जिम्मेदारी गई. इसमें lieutenant गवर्नर किशन चंद, नवीन चावला, विद्याबेन शाह और रुखसाना सुल्ताना का नाम शामिल है. ऐसा कहा जाता है कि रुखसाना को मुस्लिम समुदाय के लोगों को नसबंदी के लिए राजी करने का जिम्मा सौंपा गया था. 

बताया जाता है कि population control के लिए शुरू हुए नसबंदी campaign   से लोगों के बीच डर का माहौल बन गया.  कुछ मुस्लिमों को लगा कि सरकार उनकी आबादी कम करने की साजिश कर रही है.  वहीं  इस दौरान ये भी खबरें सामने आईं थी कि टारगेट पूरा करने के लिए 18 साल के युवाओं और 60 साल के बुजुर्गों की जबरन नसबंदी कराई जा रही है. इसकी complaints  संजय गांधी तक भी पहुंचती थीं लेकिन वो इनको reject कर देते थे.  दिल्ली में नसबंदी campaign  की जिम्मेदारी रुखसाना के पास थी इसलिए लोगों में उनके खिलाफ डर पैदा होने लगा. हालांकि रुखसाना ने भी जबरन नसबंदी कराने की बात उस दौरान नकारी थी. तो इस तरह emergency एक और काम के लिए याद की जाती है वो है सरकार की ओर से चलाएं गए नसबंदी campaign  के लिए. जिसमें जबरन लोगों की नसबंदी कराई जा रही थी.

Script by – Shamanand Tayde

Also Watch: VIDEO: Nagpur: Barely 3 days after inauguration, Samruddhi Mahamarg witnesses accident

Continue Reading
0
Would love your thoughts, please comment.x
()
x